जब पुरानी साइकिल टूट गई, तो बना डाली लकड़ी से बनी साइकिल, बनाने में लगे 25 हजार

101

इस बात में कोई शक नहीं है कि जरूरत ही आविष्कार की जनक होती है। नहीं तो Coimbatore का ये लड़का शायद लकड़ी की साईकिल नहीं बनाता।

तमिलनाडु के कोयम्बटूर के इंटीरियर डिजाइनर पीके मुरुगेसन की पुरानी साइकिल टूट गई तो उन्होंने लकड़ी की साइकल का आविष्कार कर दिया। पिछले साल ही मुरुगेसन की साइकिल टूट गई थी। जिसके बाद से उन्हें नए फ्रेम की जरूरत थी।

लेकिन हर तरफ ढूंढने के बाद भी उन्हें कोई फ्रेम नहीं मिला। जिसकी वजह से उन्होनें लकड़ी के प्लाईवूड को ही डिजाइन करना शूरू कर दिया। इसी दोरान उन्होनें अपनी साइकिल को पूरी तरह से लकड़ी का बनाने की सोची।
कम उम्र में बुलंदियों की ऊंचाईयों को छू कर रचा इतिहास,लोग बोले-कड़ी मेहनत ने कर दिखाया कमाल

मुरुगेसन का कहना है कि उन्होने लकड़ी की साईकिल पहले एक एक्सपेरिमेंट की तरह बनाना शुरु किया। उसके बाद उन्हें लगा कि इससे पर्यायवरण को बचाया जा सकता है। साथ ही इससे लोगों का ध्यान उनकी तरफ आकर्षित होगा।
हिन्दू भाई की जान बचाने के तोड़ा रमजान, पेश की इंसानियत की मिसाल

जैसा मुरुगेसन ने सोचा था लोग इस साइकिल को देखने के लिए जमा होने लगे थें। जो भी इनकी साईकिल को देखता बार-बार देखता ही रह जाता था। मुरुगेसन को साइकिला का डिजाइन तैयार करने में 15 दिन लगे थें।

पहली साइकिल बनाने में उनको 25,000 रुपए लगे थे। लेकिन अब वो इसके डिजाइन में कुछ बदलाव करेंगे जिससे साइकिल की किमल 18,000 तक हो जाएगी। मुरुगेसन जल्द ही इस साइकिल के लिए एक फर्म भी खोल सकते हैं।