IOC लगातार दूसरे साल सर्वाधिक मुनाफा कमाने वाली सरकारी कंपनी, ONGC को छोड़ा पीछे

66

New Delhi: IOC लगातार दूसरे साल सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाली सरकारी कंपनी बन गई है, उसने तेल और गैस का उत्पादन करने वाली कंपनी ONGC को भी छोड़ दिया है।

IOC के सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने के कारण अब सरकार पर ये भी सवाल उठने लगे हैं, कि क्यों नहीं पेट्रोल-डीजल के दामों में सब्सिडी दी जा रही है। हाल में इस तरह की रिपोर्ट्स आई थी कि सरकार ओएनजीसी और तेल, गैस उत्पादन से जुड़ी दूसरी कंपनियों को सब्सिडी में योगदान के लिए कह सकती है। वैसे भी IOC कारोबार के लिहाज से दशकों तक देश की सबसे बड़ी कंपनी रही है।

IOC का शुद्ध लाभ फाइनेंसियल ईयर 2017-18 में 12 प्रतिशत बढ़कर 21,346 करोड़ रुपये रहा। इससे पूर्व वित्त वर्ष में यह 19,106 करोड़ रुपये था। कंपनी ने पिछले सप्ताह ही वित्तीय परिणाम की घोषणा की। तो ONGC का शुद्ध लाभ 2017-18 में 11.4 प्रतिशत बढ़कर 19,945 करोड़ रुपये रहा। इसके अलावा मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लगातार तीसरे साल सबसे मूल्यवान कंपनी बनी रही। कंपनी का मुनाफा 36,075 करोड़ रुपये रहा।

तो वहीं देश की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज का शुद्ध लाभ 2017-18 में 25,580 करोड़ रुपये रहा और ये दूसरी सर्वाधिक मूल्यवान कंपनी रही। ओएनजीसी लंबे समय तक सर्वाधिक लाभ कमाने वाली कंपनी रही, लेकिन तीन साल पहले निजी क्षेत्र की रिलायंस और टीसीएस से मात खा गई।

ONGC के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, कि उनके लाभ को देखिए। उन्हें किसी सब्सिडी समर्थन की जरूरत नहीं है। ओएनजीसी 30,000 से 35,000 करोड़ रुपये सालाना निवेश कर रही है और अगर फिर से उससे सब्सिडी पर ईंधन मांगा जाता है, तो उसके लिए स्थिति कठिन होगी। ONGC और ऑयल इंडिया ने जून 2015 तक कच्चे तेल पर 40 प्रतिशत ईंधन सब्सिडी का भुगतान किया है।

आप हमारे वीडियो यूट्यूब पर भी देख सकते हैं