400 चमगादड़ों के साथ रहती है ये महिला,कहती है-ये चमगादड़ मेरा परिवार हैं

118

एक तरफ जहां देश में Nipah virus से कई लोगों की जान जा चुकी है। सरकार इससे बचाव के बहुत कोशिश कर रही है। वहीं दूसरी तरफ एक ऐसी महिला है जो 400 चमगादड़ों के साथ रहती है।
मरते दम तक पत्नी ने नहीं छोड़ा साथ,24 घंटे हॉस्पिटल में पति के साथ रही,रुला देगी इनकी कहानी

अहमदाबाद से 50 किलोमीटर दूर राजपुर गांव में रहने वाली महिला को यहां के लोग चमचिड़ियावाला (चमगादड़ों के साथ रहने वाली) बा के नाम से बुलाते हैं। इनका नाम शांताबेन प्रजापति है वो 74 साल की हैं।
कभी गुजारा करने के लिए चलाता था ऑटो, अब खुद की दुकान में 30 तरह की इडली के लिए है फेमस

इनका कहना है कि निपाह वायरस के बारे में सुना है लेकिन उन्हें उससे कोई डर नहीं है। ये चमगादड़ मेरा परिवार हैं। मैं एक दशक से इनके साथ रह रही हूं। शांताबेन ने बताया कि उनके घर में चमगादड़ो की संख्या तब और बढ़ गई जब उन्होनें आंगन में खाना बनाना और सोना शुरू किया।

वो कहती हैं कि चमगादड़ों के झुंड ने उनके घर की चारों दीवारें को अपना अड्डा बनाया हुआ है शांताबेन का दो मंजिले का मकान है जिसमें उपर वाली मंजिल पर चमगादड़ रहते हैं।

शांताबेन के साथ रहने वाला कोई नहीं है क्योंकि उनकी तीन बेटियां हैं और उनकी की शादी हो चुकी है और उनका एक बेटा है जो मुंबई में रहता है। उन्होंने एक मजदूर की तरह काम करके अपने बच्चों को बड़ किया है क्योंकि जब वह 30 साल की थीं तभी उनकी पति कांजीभाई की आसमानी बिजली गिरने से मौत हो गई थी।