सरकार के लिए बड़ी राहत: नोटबंदी और GST का असर हुआ खत्म, चौथी तिमाही में GDP ग्रोथ 7.7 पर पहुंची

41

New Delhi: उभरती मजबूत अर्थव्यस्था के रूप में भारत ने अपनी एक अलग पहचान बनाई है। नोटबंदी और जीएसटी से जीडीपी को लगे करारे झटके बाद अब एक अच्छी खबर आ रही है।

वित्तीय वर्ष 2018 के चौथे तिमाही में भारत की जीडीपी बढ़कर 7.7 हो गई है। अगर वित्तीय वर्ष 2017-2018 की बात करें तो भारत की जीडीपी ग्रोथ रेट 6.7 रही। वहीं 6.8 ग्रोथ रेट जीडीपी के साथ चाइना टॉप पर काबिज है।

सरकार ने गुरुवार शाम को आंकड़े पेश करते हुए बताया कि दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) के मुक़ाबले चौथी तिमाही में जीडीपी कि ग्रोथ रेट में अधिकतम बढ़त हुई है। बता दें कि पिछली तिमाही (अक्टूबर से दिसंबर) में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.2 फीसद रही थी। वहीं वित्त वर्ष 2017-18 में जीवीए 6.5 फीसद रहा है।

गौरतलब है कि यह जीडीपी ग्रोथ रेट का बीती 6 तिमाहियों में सबसे बेहतरीन है। चालू वित्त वर्ष (2017-18) की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में जीडीपी 6.3 फीसद और वहीं पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 5.7 फीसदी रही थी।

वहीं, बुधवार को अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विसेज ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर के अपने अनुमान को घटाकर 7.3 फीसदी कर दिया था। पहले एजेंसी ने 7.5 फीसदी वृद्धि का अनुमान जताया था। मूडीज ने कहा था कि भारत की अर्थव्यवस्था में क्रमिक सुधार हो रहा है लेकिन तेल की बढ़ती कीमतें और मुश्किल वित्तीय हालात भारत की सुधार की रफ्तार को धीमा करेंगी।