सरकार ने अमरनाथ यात्रा की बढ़ाई सुरक्षा,अब दो महीने तक 40 हजार जवान रहेंगे तैनात

34
खुफिया सूत्रों के मुताबिक आतंकी अमरनाथ यात्रा को निशाने पर लेने की फिराक में हैं। राज्य पुलिस का कहना है कि घाटी में 200 आतंकी सक्रिय हैं और वे इस तरह के आयोजनों को निशाना बनाने की साजिश रच रहे हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 28 जून से शुरू होने वाली वार्षिक अमरनाथ यात्रा से पहले सुरक्षा व्यवस्था की गुरुवार को समीक्षा की। सिंह ने समीक्षा बैठक में अमरनाथ यात्रा के विभिन्न मार्गों पर सुरक्षा बलों की तैनाती पर चर्चा की गई। उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था में शामिल सभी पक्षों को सुरक्षा के बहुस्तरीय पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए।

गृहमंत्री के साथ इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख एस.पी. वैद्य ने हिस्सा लिया। बाद में सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत भी बैठक में शामिल हुए। सिंह को यात्रियों के लिए अन्य सुविधाओं जैसे पेयजल, विश्राम शिविरों और स्वास्थ्य संबंधी सेवा के बारे में जानकारी दी गई।

गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पिछले वर्ष अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकवादी हमले के मद्देनजर अधिकारियों ने बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की योजना बनाई है। गौरतलब है कि पिछले वर्ष 10 जुलाई को अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकवादी हमले में नौ यात्रियों की मौत हो गई थी और 19 अन्य घायल हो गए थे।